कहीं आपके रिश्तों को तो नहीं बिगाड़ रहा ईगो, 5 आसान तरीकों से करें पहचान, दूर होगा रोज-रोज का झगड़ा

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

DESK: रिश्ते तभी स्वस्थ रहते हैं जब कपल्स एक-दूसरे की जरूरतों और इच्छाओं का सम्मान करें। जब एक दूसरे के लिए सम्मान या परवाह करने की यह भावना एक तरफा हो तो यह किसी भी रिश्ते के लिए बुरा संकेत हो सकता है। यहां हम आपको बता रहे हैं कि आप किसी रिश्ते में अहंकार की पहचान कैसे कर सकते हैं या किसी रिश्ते में आत्म-सम्मान, आत्म-महत्व या अहंकार का कितना स्थान है।

सिर्फ अपनी जरूरतों को महत्व देना- अगर पार्टनर रिलेशनशिप में रहते हुए सिर्फ अपनी जरूरतों को देखता है या पार्टनर की इच्छाओं की परवाह किए बिना उसकी जरूरतों को पूरा करता है तो यह बताता है कि रिश्ते में ईगो किस हद तक मौजूद है। ऐसे लोग अपने पार्टनर की बात सुनना भी पसंद नहीं करते।

बातचीत कम करें- बातचीत किसी भी रिश्ते में एक जरूरी तत्व है। लेकिन अगर आप दोनों के बीच बातचीत धीरे-धीरे कम हो रही है या आप कभी-कभी गुड मॉर्निंग तक एक-दूसरे से बात करते हैं तो यह रिश्ते में अहंकार की निशानी है।

जलन की भावना- अगर आपके बीच ईर्ष्या की भावना जन्म लेने लगी है तो यह आपके रिश्ते में अहंकार की वजह बन सकती है। दरअसल, ईर्ष्या एक सामान्य भावना है लेकिन अगर यह रिश्ते में जहरीला भाव ला रही है तो यह आपके रिश्ते को बर्बाद कर सकती है। इसका उपाय यह है कि इसके बारे में खुलकर बात करें और नकारात्मकता को दूर रखें।

Vastu tips : भूलकर भी सूर्यास्त के बाद न करें यह काम वरना पड़ेगा पैसों का अकाल, कंगाली से रहेंगें परेशान

अहंकारी और अहंकारी होना- इसे रिश्ते की सबसे बड़ी समस्या कहा जाता है। आमतौर पर यह समस्या तब शुरू होती है जब कोई भी पार्टनर अपने आप को अधिक श्रेष्ठ मानने लगता है। और अपनी इस फीलिंग को साबित करने की हर संभव कोशिश करती है।

माफी मांगने में होती है परेशानी- अगर पार्टनर से माफी मांगने या माफ करने में परेशानी हो रही है तो यह अहंकार की निशानी हो सकती है। ऐसे में अपने अंदर झांकें और विचार करें कि समस्या क्यों हो रही है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment