Jammu Kashmir: कश्मीर के अनंतनाग में दो प्रवासी मजदूरों को आतंकियों ने मारी गोली, पांच दिनों में हुई दूसरी घटना

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Jammu Kashmir: जम्मू-कश्मीर में एक बार फिर से आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को निशाना बनाया है. इस बार आतंकियों ने अनंतनाग में दो गैर कश्मीरी मजदूरों को गोली मार दी. जिससे दोनों मजदूर घायल हो गए. दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जहां उनकी हालत ठीक बताई जा रही है. जानकारी के मुताबिक, आतंकियों ने दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में मंगलवार देर रात दो बाहरी मजदूरों को गोली मारकर घायल कर दिया. घटना के बाद पूरे इलाके में सुरक्षा बलों ने घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया. लेकिन आतंकियों को अभी तक पकड़ा नहीं जा सका है.

बता दें कि ये कोई पहला मामला नहीं है जब आतंकियों ने गैर कश्मीरी किसी मजदूर को टारगेट कर गोली चलाई हो. बीते पांच दिनों के अंदर ही घाटी में ये दूसरी घटना है. इससे पहले 13 जुलाई को ही आतंकियों ने ऐसी ही एक घटना को अंजाम दिया था. तब आतंकियों ने शोपियां जिले में एसओजी कैंप से करीब 150 मीटर दूर गगरान इलाके बिहार के रहने वाले तीन मजदूरों को घर में घुसकर गोली मार दी थी.

पुलिस के मुताबिक, आतंकियों ने लाल चौक इलाके में देर रात दो गैर कश्मीरी मजदूरों को गोली मार दी. गोली मारने के बाद आतंकी भाग निकले. वहीं घायल हुए दोनों मजदूरों को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया. घटना की खबर मिलने के बाद वरिष्ठ अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और पूछताछ की. उसके बाद आसपास के इलाके में घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया गया. उधर उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने हमले की निंदा की है. उन्होंने कहा कि यह कायराना हरकत है और आतंकी बौखलाहट में हमले कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमला करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा.

ये भी पढ़ें: Bank Holiday August: अगस्त माह सिर्फ10 दिन बंद रहेंगे बैंक, समय रहते निपटा लें जरूरी काम

घाटी में सुरक्षाबलों का ऑपरेशन जारी

वहीं घाटी में आतंकियों के खात्मे के लिए सुरक्षाबलों का ऑपरेशन त्रिनेत्र जारी है. सुरक्षाबलों ने मंगलवार को ही पुंछ जिले में चार पाकिस्तानी आतंकवादियों को मार गिराया था. इसके बाद अधिकारियों ने बताया था कि मारे गए आतंकवादियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए. इनमें चीन में बनी चार एके असॉल्ट राइफल और दो पाकिस्तानी चिह्न वाले पिस्तौल भी शामिल थे. बता दें कि इसी साल 20 अप्रैल को ही सुरक्षाबलों ने पुंछ के मेंढर इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर हुए हमले के बाद ‘ऑपरेशन त्रिनेत्र’ शुरु किया था. इस हमले में पांच जवान शहीद हो गए थे.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment