Mukesh Sahni: सहनी की 4 करोड़ की ‘वीआईपी’ बस में सोने का सिंहासन से लेकर मयूर तक है लगा, जानें इसकी खासियत

By Top Hindustan

Published on:

Follow Us
---Advertisement---

पटना: विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के प्रमुख मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) ने दमखम दिखाने के लिए बुधवार को संकल्प यात्रा की शुरुआत की. निषाद समाज को आरक्षण देने के लिए उन्होंने इस यात्रा की शुरुआत की है. कंकड़बाग स्थित अपनी पार्टी कार्यालय से निकलकर मोकामा के लिए निकले मुकेश सहनी की यात्रा के लिए बस को आलीशान रथ बनाया गया है. बताया जा रहा है कि इस बस की खूबसूरती अंदर में काफी ज्यादा है. इसकी कुल लागत लगभग चार करोड़ बताया जा रहा है. बस के अंदर अतिथि कक्ष, शयन कक्ष, बाथरूम, ड्रेसिंग टेबल, अलमीरा के साथ-साथ हर तरह की सुविधा है, लेकिन सबसे खास बात यह है कि पूरे बस में अधिकांश जगहों पर 18 कैरेट गोल्ड का प्लेटेड लगाया गया है. मुकेश सहनी की शयन कक्ष में बिस्तर के पास 18 कैरेट गोल्ड का मयूर बनाया गया है जो लगभग पांच किलो से ज्यादा का है.

बस में सोने के प्लेटेड से नक्काशी की गई है

मुकेश सहनी की यात्रा के लिए आई बस में मार्बल, मधुबनी पेंटिंग और सोने के प्लेटेड से नक्काशी की गई है. सहनी अपने बैठने के लिए शेर के मुंह जैसे सिंहासन बनवाए हुए हैं. शेर का आकृति भी सोने का है. ड्रेसिंग टेबल में भी सोने का प्लेटेड लगा हुआ है. सोफा और पलंग पर रखे तकिया में भी सोना का काम किया गया है. वहीं, मुकेश सहनी जहां-जहां जा रहे हैं वहां सभी लोगों को गंगाजल वितरण कर रहे हैं और गंगाजल से संकल्प दिलवा रहे हैं कि हम लोग अपना हक लेकर रहेंगे.

‘सिहासन पर सिर्फ राजा का बेटा ही नहीं बैठेगा’

मुकेश सहनी ने कहा कि अभी तक जितने भी राजनीतिक पार्टी के लोग यात्रा रथ बनाए हैं, उन सब में मेरा रथ काफी खूबसूरत है. इसे मैंने अपने प्लांट मुंबई में ही खुद सामने रहकर बनवाया है. उन्होंने कहा कि सिहासन बनवाने का मुख्य मकसद मुझे यह दिखाना है कि सिहासन पर सिर्फ राजा का बेटा ही नहीं बैठेगा. निषाद समाज का बेटा भी सिंहासन पर बैठने का हकदार है. मैं जहां-जहां जा रहा हूं अपने समाज के लोगों को अंदर बुलाकर बैठा रहा हूं, उन्हें बस दिखा रहा हूं, सिंहासन दिखा रहा हूं और यह भी कह रहा हूं कि आप लोग कुछ ऐसा करिए कि आप भी सिहासन पर बैठने लायक बन जाइए. हमारे समाज के लोग बहुत ज्यादा शिक्षित नही हैं, वे लोग शिक्षा लेकर इस सिंहासन पर बैठने लायक बनें.

सचिव की बात भी नहीं सुनता था- मुकेश सहनी

आगे वीआईपी प्रमुख ने कहा कि मैं 15 महीने तक मंत्री रहा और इस दौरान हमने अपने समाज के लोगों के लिए बहुत सारा काम किया. सचिव की बात भी नहीं सुनता था. सचिव को मैं जो कहता था वह उसे करना पड़ता था. अभी के मंत्री पर तो सचिव ही भारी रहते हैं. अपने चार विधायकों के बारे में उन्होंने कहा कि 15 महीने तक वह मेरे विधायक रहे और मेरे इशारों पर काम करते थे, लेकिन उसे तो बीजेपी ने तोड़कर अपने पाले में कर लिया. अब वह क्या काम कर रहे हैं, उसका जवाब जनता देगी.

सहनी बोले- नवंबर में तय होगा गठबंधन

सहनी ने कहा कि नवंबर महीने के बाद हम तय करेंगे कि किस पार्टी के साथ गठबंधन कर 2024 का चुनाव लड़ा जाएगा. सहनी समाज मेरे पास है. बिहार-यूपी सभी जगह पर अपना रथ ले जाऊंगा. अपने समाज के लोगों को एकजुट करने का काम कर रहा हूं. सहनी समाज एकजुट हो गए तो मुकेश सहनी की ताकत बढ़ेगी और हमें कुछ नहीं करना होगा. हमारी ताकत को लोग समझे और उसके मुताबिक हमें सम्मान देने का काम जो पार्टी करेगी, उनके पास मैं जाऊंगा.

---Advertisement---

Leave a Comment