Monsoon fruits: मानसून में बीमारियों से बचने के लिए अपनाएं हेल्दी रुटीन, डाइट में शामिल करें ये 5 फ्रूट्स

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Monsoon fruits: मानसून में बारिश और बाढ़ के कारण हैजा, टाइफाइड, दस्त डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी गंभीर बीमारियां तेजी से फैल रही हैं। ऐसे में अगर इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो व्यक्ति को बीमारी होने का डर ज्यादा बढ़ जाता है। इस मौसम में खानपान का खास ख्याल रखना चाहिए वरना पेट संबंधी बीमारियां भी हो सकती हैं। मानसून की बीमारियों और इंफेक्शन से बचने के लिए आपको इम्यूनिटी बूस्टर डाइट लेनी चाहिए। यहां हम आपको मानसून के मौसम में खाए जाने वाले 5 ऐसे फ्रूट्स के नाम बता रहे हैं जिनसे आपकी इम्यूनिटी भी बूस्ट होगी और आप बीमारियों से भी बच सकेंगे।

जामुन (Java Plum)

मानसून के मौसम में मिलने वाला जामुन एक ऐसा फल है जिसकी गुठलियां भी कई बीमारियों में लाभदायक हैं। जामुन से हीमोग्लोबिन में सुधार होता है और सांस संबंधी समस्याओं में भी कारगर है। जामुन खाने से दिल की बीमारियों का डर कम हो जाता है और इंफेक्शन भी दूर होता है।

पपीता (Papaya)

विटामिन E, विटामिन C, विटामिन A जैसे पोषक तत्वों से भरपूर पपीता पेट की समस्याओं को दूर करता है। डायबिटीज की बीमारी हो या फिर दिल की, सभी में पपीता खाने से फायदा मिलता है। मानसून के मौसम में पपीता आपके स्वास्थ के लिए फायदेमंद है।

चेरी (Cherry)

मानसून के मौसम में चेरी भी आपको आसानी से मिल जाएगी।  फ्लेवोनॉएड्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों वाली चेरी हड्डियों और जोड़ों के दर्द को कम करती है। विटामिन C से भरपूर चेरी खाने से आपकी इम्यूनिटी भी बूस्ट होती है।

लीची (Lychee)

गर्मी के मौसम से लेकर मानसून तक लीची बाजार में आसानी से मिल जाती है। विटामिन B, विटामिन-C, फास्फोरस और प्रोटीन से भरपूर लीची शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। हाई बीपी से लेकर डायबिटीज तक के मरीज लीची खा सकते हैं।

नाशपाती

मानसून के मौसम में नाशपाती खाने से आपको रोगों से लड़ने में मदद मिलेगी। एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर नाशपाती खाने से डायरिया जैसी समस्या में राहत मिलती है। नाशपाती खाने से पाचन-तंत्र मजबूत रहता है और वजन घटाने में भी कारगर है।

(ये आर्टिकल सामान्य जानकारी के लिए है, किसी भी उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment