इस राज्य में बढ़ाई जाएगी सिगरेट और तंबाकू खरीदने की उम्र, सरकार करेगी कानून में बदलाव

By Top Hindustan

Published on:

Follow Us
---Advertisement---

सिगरेट और तंबाकू खाना युवाओं के बीच एक फैशन बच चुका है. ऐसे में 14-15 साल की उम्र तक आते-आते तमाम किशोर सिगरेट और तम्बाकू का इस्तेमाल करने लगते हैं. लेकिन कर्नाटक सरकार ऐसे युवाओं के सिगरेट और तम्बाकू प्रोडक्टर के खरीद पर रोक लगाने जा रही है. जिसके तहत सरकार सिगरेट और तम्बाकू खरीदने की उम्र सीमा में बढ़ोतरी कर सकती है. दरअसल, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री दिनेश गुंडू राव ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार तंबाकू उत्पाद खरीदने की उम्र बढ़ाने जा रही है. उन्होंने कहा कि सरकार इसे बढ़ाकर 21 साल करने के लिए कदम उठाएगी. स्वास्थ्य मंत्री ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि, इस संबंध में सरकार सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम में संशोधन लाएगी.

राज्य में हुक्का बारों पर भी लग सकती है रोक

राव ने कहा कि इसके अलावा, सरकार राज्य में हुक्का बारों को परमिट नहीं देने पर भी विचार कर रही है. यह निर्णय यहां विधान सौध में खेल मंत्री नागेंद्र के साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ राव द्वारा आयोजित एक बैठक में लिया गया. जहां उन्होंने सार्वजनिक स्थानों पर अन्य तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध लगाने पर भी चर्चा की. इस बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्कूलों के अलावा मंदिरों और अस्पतालों के आसपास भी तंबाकू उत्पादों की बिक्री और सेवन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

18 से बढ़ाकर 21 साल की जाएगी उम्र

स्वास्थ्य मंत्री दिनेश राव  ने कहा कि सरकार तंबाकू उत्पाद खरीदने की उम्र सीमा भी 18 से बढ़ाकर 21 साल करेगी. राव ने कहा कि युवा तेजी से हुक्का बार की ओर आकर्षित हो रहे हैं और इससे उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. चूंकि हुक्का बार युवाओं के लिए सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पादों की खपत का एक विकल्प बन गया है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, ‘हमने अधिनियम में संशोधन लाने पर चर्चा की है…हमने इस संबंध में एक सरकारी आदेश जारी करने पर चर्चा की है. आने वाले दिनों में कानूनी पहलुओं पर चर्चा की जाएगी और फिर इस बारे में निर्णय लिया जाएगा.

‘तंबाकू सेवन से होती है नशा करने की शुरूआत’

स्वास्थ्य मंत्री राव ने कहा कि आज के युवा नशे की लत में पड़कर अपना कीमती भविष्य बर्बाद कर रहे हैं. इसके साथ ही हमने अवैध गतिविधियों को जड़ से खत्म करने का दृढ़ निर्णय लिया है. तम्बाकू का सेवन करने के बाद युवा नशीली दवाओं और मादक द्रव्यों के सेवन की ओर आकर्षित हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि, तंबाकू के इस्तेमाल ने इस सब की शुरुआती होती है, इसलिए हम इसे शुरूआत में ही ठीक करना चाहते हैं.

---Advertisement---

Leave a Comment