Astro tips : भूलकर भी इन दिनों में न काटे नाख़ून वरना एक झटके में खाली होगी तिजोड़ी, हो जायेंगे कंगाल

By Top Hindustan

Published on:

Follow Us
---Advertisement---

Astro tips: हिंदू धर्म ग्रंथों में सभी चीजों से जुडी कई परम्पराएँ बताई जाती है जिनके द्वारा आप जीवन में सभी परेशानियों की छुट्टी कर नया हँसता खेलता जीवन जी सकते है ऐसे में नाखून काटने के बारे में कुछ मान्यताएं हैं। ये मान्यताएं अलग-अलग संस्कृतियों और परंपराओं के अनुसार भिन्न-भिन्न हो सकती हैं। यहां कुछ मान्यताएं बताई जा रही हैं, जो नाख़ून काटने से जुडी हैं:

 

सूर्यास्त और रात्रि: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, सूर्यास्त के समय और रात्रि में नाखून काटना अशुभ माना जाता है। इसका कारण माना जाता है कि इन समयों पर मां लक्ष्मी नाख़ून काटने से  नाराज हो सकती हैं।तथा आपके जीवन में धन सम्बन्धी समस्याएँ शुरू हो जाती है.

अमावस्या: कुछ लोग अमावस्या को नाखून न काटने की सलाह देते हैं । इसके अनुसार अमावस्या को नाख़ून काटने से स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ पीछा नहीं छोडती है और जीवन में दुःख बने रहते है.

 

शुक्ल पक्ष: हिंदू पंचांग के अनुसार, नाखून काटने के लिए शुक्ल पक्ष (नवमी से पूर्णिमा) अशुभ माना जाता है।

सोमवार: कुछ लोग नाखून काटने को सोमवार के दिन को मना करते हैं। सोमवार को भगवान शिव का दिन माना जाता हैं.

मंगलवार: ज्योतिष शास्त्र में कुछ लोग मंगलवार को नाखून काटने के लिए अशुभ मानते हैं। इसके पीछे का कारण यह हो सकता है कि मंगलवार को भगवान हनुमान के दिन के रूप में माना जाता है और नाखून काटने से आर्थिक समस्याएं हो सकती हैं। यह आमतौर पर उन लोगों के लिए होता है जो हनुमान जी के व्रत रखते हैं।

Weather Forecast: प्लीज घरों में रहे, क्योंकि कहीं गिर ना जाए बिजली, इन इलाकों में होगी झमाझम बारिश

 

गुरुवार: कुछ लोग नाखून काटने को गुरुवार (बृहस्पतिवार) को मनाही करते हैं। मान्यता है कि इस दिन नाखून काटने से वैवाहिक संबंधों में मनमुटाव हो सकता है।

श्राद्ध काल में नाखून काटना: हिंदू धर्म में श्राद्ध काल में नाखून काटने से बचने की सलाह दी जाती है। श्राद्ध काल अपने पितरों की आत्मा को श्रद्धा और नमन का अवसर माना जाता है और इस समय नाख़ून काटने से जीवन में कई सारी समस्याएँ आती है.

 

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. tophindustan.com इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।

---Advertisement---

Leave a Comment